"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 26 फ़रवरी 2012

"होली लेकर, फागुन आया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


गली-गाँव में धूम मची है,
फागों और फुहारों की।।
मन में रंग-तरंग सजी है,
होली के हुलियारों की।।

गेहूँ पर छा गयीं बालियाँ,
नूतन रंग में रंगीं डालियाँ,
गूँज सुनाई देती अब भी,
बम-भोले के नारों की।।

पवन बसन्ती मन-भावन है,
मुदित हो रहा सबका मन है,
चहल-पहल फिर से लौटी है,
घर - आँगन, बाजारों की।।
जंगल की चूनर धानी है,
कोयल की मीठी बानी है,
परिवेशों में सुन्दरता है,
दुल्हिन के श्रृंगारों की।।
होली लेकर, फागुन आया,
मीठी-हँसी, ठिठोली लाया,
सावन जैसी झड़ी लगी है,
प्रेम-प्रीत, मनुहारों की।।

गली-गाँव में, धूम मची है,
फागों और फुहारों की।।
मन में रंग-तरंग सजी है,
होली के हुलियारों की।।

15 टिप्‍पणियां:

  1. aapki rangbirangi post ne holi ki fuharon se srabor kar diya dhanyvad

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने धीरे धीरे माहौल बना दिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 27-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  4. आगमन होली का - सुन्दर गीत.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता के मधुर शब्दों के साथ सुन्दर चित्र.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अति उत्तम,सराहनीय मनमोहक चित्रमय प्रस्तुति,

    NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी...

    उत्तर देंहटाएं
  7. holi parv ki aap ko bhi parivar sahit bahut bahut shubhkamnayen.aapki prastuti ki sundarta v kavyatmakta ne man moh liya.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत चित्र जैसा ही मधुर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  9. होली का माहोल बनने लगा है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्तरांचल की शास्त्रीय होली अपनी अलग पहचान रखती है. आपने रंगीन फूलों के साथ जो खशबू इस रचना के द्वारा बिखेरी है वह अनुपम है. बहुत प्यारी कविता.आपको होली की अग्रिम शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छे चित्र... सुन्दर गीत...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails