"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 29 मई 2012

"महँगाई-छः दोहे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


पूरी दुनिया में चला, मन्दी का है दौर।
लेकिन मेरे देश में, महँगाई का ठौर।१।

लाभ कमाती तेल में, भारत की सरकार।
झेल रही जनता यहाँ, महँगाई की मार।२।

सत्ताधारी शान से, सुना रहे फरमान।
महँगाई से त्रस्त हैं, निर्धन-श्रमिक-किसान।३।

हा-हाकार मचा हुआ, दुर्लभ मिट्टीतेल।
मार रसोईगैस की, लोग रहे हैं झेल।४।

बापू जी के देश में, बढ़ने लगे दलाल।
शिकवा किससे हम करें, पूरी काली दाल।५।

महँगाई के युद्ध में, हार गया है राम।
जनसेवक ही खा रहा, अब काजू-बादाम।६।

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सार्थक ,कटाक्ष करते हुए उत्कृष्ठ दोहे बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया व्यंग्य किया है...
    बहुत बेहतरीन रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. भारत की समस्या जो दिन ब दिन बढ़ती जा रही. सटीक दोहे, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की व्यवस्था पर बहुत सटीक कटाक्ष....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. कहो कौन सा काल है,
    हाल बड़ा बेहाल है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज के वक्त में सबको ये महंगाई मार गई ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. mudda jwalant hai guru jee lekin picture aapne aisee lagaayee hai ki bas ab in cheezon ko dekh ke hee dil behlaa sakte hain!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुंह की और मसूर की, लाल लाल सी दाल |
    डाल-डाल पर बैठकर, खाते रहे दलाल |

    खाते रहे दलाल, खाल खिंचवाया करते |
    निर्धन श्रमिक किसान, मौत दूजे की मरते |

    उच्चारण पर हाय, पड़े गर्दन पर फंदा |
    सिसक सिसक मर जाय, आज का सच्चा बंदा ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुंह की और मसूर की, लाल लाल सी दाल |
    डाल-डाल पर बैठकर, खाते रहे दलाल |

    खाते रहे दलाल, खाल खिंचवाया करते |
    निर्धन श्रमिक किसान, मौत दूजे की मरते |

    "उच्चारण" पर हाय, पड़े गर्दन पर फंदा |
    सिसक सिसक मर जाय, आज का सच्चा बंदा ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. महँगाई पर चोट की,धन्यवाद हे मित्र!
    कवि का सचमुच धर्म है,खींचे सच्चा चित्र|

    उत्तर देंहटाएं
  11. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |
    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||
    --
    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails